कथा कलंकित हो जाएगी पुरखों के बलिदानों की Katha Kalankit Lyrics

कथा कलंकित हो जाएगी पुरखों के बलिदानों की Katha Kalankit Lyrics in Hindi. This poem is written and performed by Ashutosh Rana.
Katha Kalankit Ho Jaegee Purakhon Ke Balidaanon Ki Poem Details
Song Title
Katha Kalankit Ho Jaegee
Artist
Ashutosh Rana
Katha Kalankit Lyrics in Hindi

हिंदुस्तान बना मत देना लाशों पर इंसानों की
हिंदुस्तान बना मत देना लाशों पर इंसानों की
और कथा कलंकित हो जाएगी पुरखों के बलिदानों की
राष्ट्र भक्ति का मंदिर जिस दिन टूट गया नादानी मेंऔर सिर्फ़ सिसकियाँ पाएंगे हम संतों की वाणी में
भारत माता के आँचल को मत बाँटों बेताबी मेंभगत सिंह के लाश के टुकड़े तड़प उठेंगे रावी मेंऔर गीत नहीं गाए जाएंगे कौन बांसुरी फुँकेगाऔर निगलेगी ये देश समूचा खामोशी शमशानों कीकथा कलंकित हो जाएगी पुरखों के बलिदानों की
सिसक-सिसक कर बाग ये जलियांवाला पूछेगा हमसेऔर सवा लाख से एक लड़ाने वाला पूछेगा हमसेकी क्यूँ बीरों की क़ुर्बानी का चमन बाँटने निकले हो
सिसक-सिसक कर बाग ये जलियांवाला पूछेगा हमसेऔर सवा लाख से एक लड़ाने वाला पूछेगा हमसेकी क्यूँ बीरों की क़ुर्बानी का चमन बाँटने निकले होऔर किस हक़ से तुम उधम सिंह का वतन बांटने निकले हो
और हम चराग थे बापू-शेखर और सुभाष की आत्मा केहम चराग थे बापू-शेखर और सुभाष की आत्मा केऔर क्यूँ उतरने लगे आरती अंधियारे तूफ़ानों कीकथा कलंकित हो जाएगी पुरखों के बलिदानों कीहिंदुस्तान बना मत देना लाशों पर इंसानों की

Katha Kalankit Lyrics in Hindi
Hindustaan bana mat dena laashon par insaanon kee
Hindustaan bana mat dena laashon par insaanon kee
Aur katha kalankit ho jaegee purakhon ke balidaanon kee
Raashtr bhakti ka mandir jis din toot gaya naadaanee meinAur sirf sisakiyaan paenge ham santon kee vaanee meinBhaarat maata ke aanchal ko mat baanton betaabee meinBhagat singh ke laash ke tukade tadap uthenge raavee meinAur geet nahin gae jaenge kaun baansuree phunkega
Aur nigalegee ye desh samoocha khaamoshee shamashaanon keeKatha kalankit ho jaegee purakhon ke balidaanon kee
Sisak-sisak kar baag ye jaliyaanvaala poochhega hamaseAur sava laakh se ek ladaane vaala poochhega hamaseKee kyoon beeron kee qurbaanee ka chaman baantane nikale ho
Sisak-sisak kar baag ye jaliyaanvaala poochhega hamaseAur sava laakh se ek ladaane vaala poochhega hamaseKee kyoon beeron kee qurbaanee ka chaman baantane nikale hoAur kis haq se tum udham sinh ka vatan baantane nikale ho
Aur ham charaag the baapoo-shekhar aur subhaash kee aatma keHam charaag the baapoo-shekhar aur subhaash kee aatma keAur kyoon utarane lage aaratee andhiyaare toofaanon kee
Katha kalankit ho jaegee purakhon ke balidaanon keeHindustaan bana mat dena laashon par insaanon kee

Leave a Comment